Pages

Wednesday, March 7, 2012

होली


पलाश हुआ , वसंत हमजोली
टेसू बिखरा , संग अबीर टोली

आसमाँ सहलायेबादल हौले हौले 
जब तब बूँदें खेले , धरती से होली

अबीर मनअधीर तन
मन मलंग,  नए  रंग 
कच्ची रंजीशे, कच्चे रंग
तेरे संगसब सच्चे रंग

इक बरस लगा आने मेंयह होली  
तुझ पर रंग 'बरसानेमेंयह होली  
मै रहूँ बावरातुम रहो भोली 
गाये फाग, "बरसानेमें, इस होली